June 15, 2021

diplomattimes

DIPLOMATTIMES

किसानों के आंदोलन के हक में संत बाबा राम सिंह ने अपने आप को गोली मारकर दी अपनी जान

1 min read

संत बाबा राम सिंह जी की फ़ाइल फोटो

न्यू दिल्ली(डिप्लोमेंट न्यूज़)Dec 16,2020: दिल्ली सीमा पर चल रहे किसानों के आंदोलन के बीच संत बाबा राम सिंह ने गोली मारकर अपनी जान दे दी है। उनके पास से एक नोट भी मिला है। वह किसानों के हालात को लेकर बेहद चिंतित थे। नोट में उन्होंने लिखा कि किसानों का दर्द देखा नहीं जा रहा है। आइए पढ़ते हैं इस नोट में और क्या-क्या लिखा है।

गोली लगने से उनकी मौत हो गई है। घायल अवस्था में उन्हें एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां पर चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। बाबा राम सिंह करनाल के रहने वाले थे। उनका एक सुइसाइड नोट भी सामने आया है, जिसमें उन्होंने किसान आंदोलन का जिक्र करते हुए उनके हक के लिए आवाज बुलंद की है। संत बाबा राम सिंह की आत्महत्या पर दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने दुख जताया है.

राहुल गाँधी ने भी ट्वीट कर सरकार किसान विरोधी कानून वापिस लेने को कहा है,पढ़े उन्हों ने किया कहा : इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएँ और श्रद्धांजलि |
कई किसान अपने जीवन की आहुति दे चुके हैं। मोदी सरकार की क्रूरता हर हद पार कर चुकी है।
ज़िद छोड़ो और तुरंत कृषि विरोधी क़ानून वापस लो!

बाबा जी का पंजाबी भाषा में लिखा सुसाइड नोट

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने दुख जताते हुए मोदी सरकार पर प्रहार किया, कहा- राजहठ आत्मघाती है क्योंकि ये देश की आत्मा-अन्नदाता की जान का दुश्मन बन बैठा है|

शिरोमणि अकाली दल की नेत्री और मोदी सरकार में मंत्री रह चुकी श्रीमती हरसिमरत कौर बादल ने ट्वीट करके मोदी सरकार को लताड़ा. उन्होंने कहा कि ”केंद्र सरकार यहां तक जिद्दी बनी हुई है और किसानों की पीड़ा को नकार रही है. बाबा राम सिंह जी सिंघरा वाले ने कुंडली सीमा पर अपने आसपास के लोगों के कष्टों को देखने में असमर्थ होने के बाद आत्महत्या कर ली है. आशा है कि केंद्र सरकार इस त्रासदी के बाद जागेगी और इससे पहले कि बहुत देर हो जाए तीनों कृषि कानूनों को वापस लेगी.”

Share now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Diplomat times Pvt Ltd. Registered under MCA (Govt of India ) |